Tel: 9454702940 | Mail: readers@aawaameelehar.com



ओलंपिक्स के खिलाड़ियों के समर्थन में जुटे सलमान खान

सलमान खान को ओलंपिक्स का गुडविल एम्बेसडर बनाये जाने पर शोर शराबा मचाने वालों को सलमान खान ने अपने तरीके से जवाब देना शुरू कर दिया है। वह ओलंपिक्स में जाने वाले दल के सदस्यों का परिचय सोशल मीडिया पर करा रहे हैं। सोशल मीडिया पर सलमान खान के पांच करोड़ से ज़्यादा प्रशंसक हैं। सलमान खान ने अपने अकाउंट में हैशटैग मेकइंडियाप्राउड क्रिएट किया है। उन्होंने इस में कई एथलीटों के प्रोफाइल शेयर किये हैं। आने वाले दिनों में काफी दूसरे खिलाडियों के प्रोफाइल अपलोड किये जायेंगे। सलमान खान का इरादा ओलंपिक्स के लिये क्वालीफाई किये खिलाडियों के अचीवमेंट्स तथा अन्य विवरण देने के लिए ब्लॉग बनाने का है। सलमान खान ने कहा, "मेरे लिए इंडियन ओलिंपिक दस्ते का हर सदस्य सुपर स्टार है। उन्होंने चार सालों से तैयारी कर रखी है। इसे दिखाने के लिए उन्हें कुछ मिनट या कई मामलों में कुछ सेकण्ड्स ही मिलते हैं। इसलिए, उन्हें हमारा प्यार और सहयोग तथा प्रोत्साहन देने की ज़रुरत है। उन्हें ऐसे करोड़ों प्रोत्साहन चाहिए। " तो मिला सलमान खान के आलोचकों को जवाब। अगर सलमान खान ओलिंपिक के खिलाड़ियों के साथ हैं तो उनके साथ सलमान खान के करोड़ों प्रशंसक भी है।




सह भूमिकाओं के हरफनमौला सुधीर !

सुधीर एक ऐसे एक्टर थे, जो कभी किसी फिल्म में नायक नहीं बने। १९५४ में रिलीज़ फिल्म टैक्सी ड्राइवर में वह देव आनंद और कल्पना कार्तिक के साथ छोटी भूमिका में थे। इसके बाद, २००९ तक उन्होंने कोई २२६ फ़िल्में की। उन्होंने चेतन आनंद की वॉर ड्रामा फिल्म हकीकत से दर्शकों का ध्यान खींचा। वह ऐसे एक्टरों में शुमार हैं, जिन्होंने एक ही टाइटल वाली दो फिल्मों में काम किया। उन्होंने १९७५ की दीवार भी की और २००४ की दीवार भी। उनकी उल्लेखनीय फिल्मों में प्रेम पत्र, शहीद, एक फूल एक भूल, महल, प्रेम पुजारी, गैम्बलर, राखी और हथकड़ी, छुपा रुस्तम, जोशीला, शरीफ बदमाश, हीरा पन्ना, आदि दसियों फ़िल्में हैं। उन्होंने देव आनंद और अमिताभ बच्चन की ज़्यादातर फिल्मों में अभिनय किया। सुधीर ने परदे पर चोर- पुलिस का खेल खूब किया। वह जहाँ पुलिस कमिश्नर बने, वहीँ गैंगस्टर के साथी भी बने। हास्य भूमिकाएं भी उन पर खूब फबती थी। अपनी ख़ास संवाद अदायगी के कारण वह हर रोल में खप गए। भगवानदास मूलचंद लुथरिया के नाम से १३ अप्रैल १९३१ को जन्मे सुधीर की मौत २०१४ में आज ही के दिन मुंबई में हुई थी। मशहूर फिल्म निर्देशक मिलन लुथरिया उनके भतीजे हैं।





क्यों नाराज़ हैं 'एक योद्धा शूरवीर' से विद्या बालन !

इस शुक्रवार (११ मार्च) को एक डब फिल्म 'एक योद्धा शूरवीर' रिलीज़ हो रही है। इस फिल्म के पोस्टर में साउथ के अभिनेता पृथ्वीराज सुकुमारन के साथ बॉलीवुड के ज़्यादा जाने पहचाने चहरे प्रभुदेवा, तब्बू, विद्या बालन, जेनेलिआ डिसूज़ा और अमोल गुप्ते नज़र आते हैं। यह एक पीरियड ड्रामा फिल्म है। लेकिन, यह डब संस्करण २०१० में रिलीज़ मलयालम फिल्म 'उरुमी' का है। इस मलयालम फिल्म में विद्या बालन ने एक कैमिया किया था। अब जबकि यह फिल्म हिंदी में डब कर रिलीज़ की जा रही है तो बताते हैं कि विद्या बालन बेहद नाराज़ हैं कि एक डब फिल्म के पोस्टर में उन्हें ख़ास अहमियत दी जा रही है, जबकि फिल्म में उनका कैमिया है। यहाँ बताते चले कि यह पीरियड फिल्म १५०० वी शताब्दी के केरल की है। पूरी फिल्म में पृथ्वीराज सुकुमारन, प्रभुदेवा और अमोल गुप्ते के अलावा जेनेलिआ डिसूज़ा की ही मुख्य भूमिका है। बॉलीवुड की एक्ट्रेस तब्बू और विद्या बालन का एक्सटेंडेड कैमिया है। विद्या बालन का कहना है कि जब फिल्म में उनका कैमिया है। उन्होंने फिल्म में केवल एक गीत और कुछ मिनटों के चार सीन किये हों। तब हिंदी फिल्म के पोस्टरों में उन्हें अहमियत दे कर उनके बॉलीवुड स्टारडम का फायदा उठाया जा रहा है। क्या विद्या बालन के दावे में बल है ? इसमे कोई शक नहीं कि फिल्म के निर्माता उरुमी को डब कर बॉलीवुड के चेहरों का फायदा उठाना चाहते हैं। लेकिन, हिंदी फिल्म दर्शकों में जितना परिचित चेहरा विद्या बालन का है, उतना ही जाना पहचाना चेहरा फिल्म की नायिका जेनेलिआ डिसूज़ा, प्रभु देवा और अमोल गुप्ते का भी है। पृथ्वीराज सुकुमारन भी हिंदी फिल्मों में अभिनय कर चुके हैं। फिल्म में तब्बू का भी एक्सटेंडेड कैमिया है। पोस्टर में इन सभी कलाकारों के चहरे नज़र आते हैं। तब विद्या बालन की क्यों ऐतराज़ ? उरुमी को तमिल में डब कर भी रिलीज़ किया गया था। उरुमी के मलयालम और तमिल संस्करणों के पोस्टरों में भी यह चहरे नज़र आते हैं। विद्या बालन को उस समय विरोध करना चाहिए था। अब उनका विरोध करना फिल्म को पब्लिसिटी दिलाना भी हो सकता है। उरुमी के टाइटल्स में मणिरत्नम के साथ शाहरुख़ खान और जूही चावला के भाई बॉबी चावला को थैंक्स दिया गया है। इस फिल्म के एक निर्माता रिलायंस भी है। ऐसे में केवल विद्या बालन का विरोध वाजिब नहीं लगता।



एक्शन 'द एक्सपेंडब्ल्स' की तर्ज पर हॉरर 'डेथ हाउस'

हॉलीवुड अभिनेता सिल्वेस्टर स्टेलोन की लिखी और निर्देशित एक्शन फिल्म 'द एक्सपेंडब्ल्स' २०१० में रिलीज़ हुई थी। 'द एक्सपेंडब्ल्स' को मिली बड़ी सफलता के बाद इस सीरीज में दो फ़िल्में २०१२ और २०१४ में रिलीज़ हुई। द एक्सपेंडब्ल्स में फिल्म के नायक सिल्वेस्टर स्टैलोन के साथ जैसन स्टेथम, जेट ली, डॉल्फ लुंडग्रेन, रैंडी कूचर, टेरी क्रुज, स्टीव ऑस्टिन और मिकी रूरके जैसी मिली जुली स्टारकास्ट थी। द एक्सपेंडब्ल्स की सफलता के बाद सीरीज में तीन फ़िल्में ही नहीं बनाई गई, बल्कि इस फिल्म की मिली जुली स्टारकास्ट ने इसी तर्ज पर अन्य शैली की फ़िल्में बनाने की प्रेरणा भी दूसरे फिल्मकारों को दी । फ़ास्ट एंड फ्यूरियस सीरीज की फिल्मों में स्टार कास्ट का जमावड़ा लगने लगा। द एक्सपेंडब्ल्स के स्टूडियो मिलेनियम ने सभी महिला किरदारों वाली फिल्म द एक्सपेंडाबैलेस' का ऐलान किया। इस फिल्म में मेरील स्ट्रीप, कैमरून दिआज़ और मिला जोवोविच के अलावा कुछ अन्य अभिनेत्रियों को लिया जाना है। द एक्सपेंडब्ल्स का हॉरर संस्करण बनाये जाने की भी खबर है। इस फिल्म को हॉरर फिल्म ज़ोंबी किलर्स: एलीफैंट ग्रेवयार्ड' के निर्देशक हैरिसन स्मिथ निर्देशित कर रहे हैं। इस फिल्म में हॉरर फिल्मों के रॉबर्ट एंग्लुण्ड, दैन्य ट्रेजो, माइकल बेरीमैन, केन हॉडर, डी वैलेस, बिल मोसली, बर्बर क्राम्पटन, डौग ब्रेडले,केन फ़ौरी, कमिले कीटोन और डॉन शांक्स जैसे हॉरर फिल्मों के एक्टर नृशंस हत्यारों की शक्लों में नज़र आएंगे। इस फिल्म के एक एक्टर गनर हैनसन, जिन्होंने फिल्म की कहानी भी लिखी थी, की असामयिक मृत्य हो चुकी है। यह फिल्म कहानी है भूमिगत ईविल सरकार के एरिया ५१ स्थित द डेथ हाउस की है, जहाँ पहुँचाने वाले इंसानों को भयानक नौ स्तरों से गुजरना होता है, जहाँ ऐसे नृशंस हत्यारे मौजूद मौजूद हैं, जिनसे मौत भी पनाह मांगती है। फिल्म २०१७ में रिलीज़ हो सकती है।



बड़े परदे पर एक और वीडियो गेम्स का एक्शन

वीडियो गेम्स पर फिल्मो की सीरीज में डायरेक्टर डस्टिन कुर्ज़ेल की फिल्म 'असैसिन'स क्रीड' नया टाइटल जुड़ गया है। इसी टाइटल वाले पॉपुलर गेम्स पर इस फिल्म में डस्टिन कुर्ज़ेल एक बार फिर माइकल फॉस्बेंडर और मारिओं कोटिल्लार्ड के साथ काम कर रहे हैं। यह तिकड़ी अभी ११ दिसंबर को रिलीज़ फिल्म 'मैकबेथ' में एक साथ थे। एक्शन एडवेंचर 'असैसिन'स क्रीड' उसी यूनिवर्स पर है, जिसमे वीडियो गेम बनाया गया है। इस पहली फिल्म की कहानी भी वही है, जो आगे बढाती जायेगी। इस फिल्म में माइकल फॉस्बेंडर दोहरे चरित्र में होंगे। उनका पहला चरित्र १५ वी शताब्दी का तलवारबाज़ अगुइलर होगा तथा दूसरा करैक्टर आधुनिक समय का कैलम लिंच होगा। कथानक के अनुसार लिंच को पता चलता है कि उसके पूर्वज अगुइलर १५ वी शताब्दी के स्पेन के असैसिन योद्धा थे। कैलम, असैसिन के पुराने दुश्मन टेम्पलर्स को पराजित करने अगुइलर की स्मृतियों को पुनर्जीवित करता है ताकि असैसिन को पराजित करने वाली विद्या और कौशल को सीख सके। इस फिल्म में टेम्पलर्स की भूमिका ग्राहम करी ने की है। अन्य भूमिकाओं में ब्रेंडन ग्लीसन, जेरेमी आयरन्स, ब्रायन ग्लीसन, माइकल केनेथ विलियम्स, आदि के नाम उल्लेखनीय हैं।



जब दलबीर कौर थिरकेगी स्क्रीन पर

पाकिस्तान की जेल में मारे गए एक भारतीय कैदी सरबजीत पर बायोपिक फिल्म 'सरबजीत' में सरबजीत की बहन दलबीर कौर के अपने भाई को पाकिस्तान की जेल से निकाल कर भारत लाने की कोशिशों की दास्ताँ हैं। फिल्म में दलबीर कौर का किरदार बॉलीवुड की ग्लैमरस अभिनेत्री ऐश्वर्या राय बच्चन कर रही है हैं। ऐश्वर्या ने पिछले साल संजय गुप्ता की फिल्म 'जज़्बा' से ज़ोरदार वापसी की है। निर्देशक ओमंग कुमार की फिल्म में ऐश्वर्य को अभिनय के भिन्न रंग दिखाने का मौका मिलेगा। ओमंग कुमार ने प्रियंका चोपड़ा को लेकर 'मैरी कॉम' जैसी अवार्ड विनिंग फिल्म बनाई थी। इसलिए ऐश्वर्या के लिए भी बढ़िया मौका है। सरबजीत पंजाब के एक गाँव की कहानी है। ऐश्वर्या का किरदार देहाती किस्म का है। लेकिन, ओमंग अपनी फिल्म को बोरिंग नहीं बनाना चाहते। इसलिए फिल्म में नाच गीत हैं। पंजाबी प्रभाव वाले यह गीत फिल्म की कहानी उभरने वाले हैं। ऐसे ही एक गीत में ऐश्वर्या राय बच्चन, ऋचा चड्ढा और रणदीप हुडा पर फिल्माया गया है। पंजाबी भांगड़ा शैली के इस गीत के बोल 'तुगलक तुगलक तुन' हैं। इस गीत को सुनते समय 'जब वी मेट' के 'नगाड़ा नगाड़ा' गीत की याद आयेगी। इस गीत को 'रा...राजकुमार' के गीत 'गन्दी बात' के कोरियोग्राफर विष्णु देवा ने तैयार किया है। फिल्म का संगीत शैल-प्रीतेश का है और गीत संदीप सिंह ने लिखे हैं। इस गीत की शूटिंग अगले हफ्ते फिल्मसिटी में सेट तैयार कर की जाएगी।



टीनएज म्युटेंट निंजा टर्टलस आउट ऑफ़ द शैडोज

२०१४ में बॉक्स ऑफिस पर ४९३ मिलियन डॉलर की मोटी कमाई करने वाली फिल्म 'टीनएज म्युटेंट निंजा टर्टलस' को भला कौन भूल सकता है। हालाँकि, समीक्षकों ने फिल्म की आलोचना की थी, इसके बावजूद इस फिल्म ने बॉक्स ऑफिस पर बड़ी सफलता हासिल की थी । इसीलिए, अब एक बार फिर इस फिल्म के सीक्वल 'आउट ऑफ़ द शैडोज' को रिलीज़ किये जाने की तैयारी जोरों पर है। पिछले दिनों इस फिल्म का ट्रेलर रिलीज़ किया गया था। इस ट्रेलर में अप्रैल ओ'नील के किरदार में मेगन फॉक्स, वरन फेनविक के किरदार में विल अर्नेट, कैसी जोंस के किरदार में स्टेफेन अमल, एरिक सैक्स के किरदार में विलियम फिचनर और बैक्सटर स्टॉकमैन के किरदार में टाइलर पैरी नज़र आते हैं। फिल्म की कहानी के अनुसार द टर्टलस टीसीआरआई के विज्ञानी डॉक्टर बैक्सटर स्टॉकमैन के मुकाबले में आ जाते हैं। पुराना दुश्मन श्रेडर भी वापस आ गया है। उसने स्टॉकमैन को अपने अनुकूल नए म्युटेंटस बेबॉप और रॉकस्टेडी बनाने के निर्देश दिए हैं। न्यू यॉर्क सिटी पर नया खतरा मंडरा रहा है। दुनिया को ख़त्म होने से बचाने के लिए द टर्टलस अपने मानव साथियों अप्रिल ओ'नील और वरन फेनविक के साथ मुकाबले में आ जाते हैं। उनका साथ सजग कैसी जोन्स दे रहा है। उम्मीद की जानी चाहिए कि अपने पूर्ववर्ती जोनाथन लिएब्समैन की तरह इस फिल्म के निर्देशक डेव ग्रीन बढ़िया एक्शन फिल्म दे पाने में कामयाब होंगे। यह फिल्म ३ जून २०१६ को रिलीज़ होगी।



ऑस्कर पुरस्कारों में प्रियंका चोपड़ा

२८ फरवरी २०१६ को होने जा रहे ८८ वे अकादमी अवार्ड्स समारोह में बॉलीवुड अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा भी नज़र आयेंगी। उन्हें यह मौका किसी बॉलीवुड फिल्म के कारण नहीं मिल रहा है। क्योंकि भारत से विदेशी फिल्मों की श्रेणी में भेजी गई इकलौती मराठी फिल्म कोर्ट भी ऑस्कर समारोह से बाहर हो चुकी है। इसलिए, निश्चित रूप से प्रियंका चोपड़ा को यह सम्मान अमेरिकी सीरियल 'क्वांटिको' से मिली शोहरत के कारण मिल रहा है। वह स्टीव कारेल, क्विंसी जोंस, ब्युं-हुन ली, जेयर्ड लेटो, जुलिआने मूर, ओलिविया मून, मर्गोट रोबी, जैसन सेगेल, एंडी सेर्किस, जे के सिमोंस, केरी वाशिंगटन और रीस विदरस्पून जैसी हॉलीवुड की हस्तियों के साथ प्रेजेंटर के रोल में होंगी। ज़ाहिर है कि एक भारतीय फिल्म अभिनेत्री के लिए यह बड़ा सम्मान है।